सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है sarfaroshi ki tamanna rerprise





सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है।

देखना है ज़ोर कितना बाजु ऐ कातिल में है।
-पंडित राम प्रसाद बिस्मिल
सुनिये पूरी ग़ज़ल
नीचे दिए गए लिंक के माध्यम से






sarfaroshi ki tamanna rerprise
Sarfaroshi ki Tamanna Full Ghazal Poem Kavita
 
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है sarfaroshi ki tamanna rerprise सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है sarfaroshi ki tamanna rerprise Reviewed by Hindi Sahitya on 10:26 AM Rating: 5
Powered by Blogger.